GST क्या है? GST की पूरी जानकारी हिंदी में

gst kya hai? gst in Hindi

GST kya hai : – नमस्कार दोस्तो, Indian Government ने tax के मामले में सबसे बड़ा कदम उठाया है। 1 july 2017 से अब पूरे भारत मे GST याने की Goods and Service Tax की शुरुवात हो जाएगी। आज हम GST kya hai, GST benefits और GST loss के के बारे में जानेंगे।

 

GST kya hai(क्या है)? What is GST in Hindi?

GST kya hai यह जानने से पहले हम अभी वर्तमान में चल रही tax प्रणाली को समझेंगे। इससे GST को समझना आसान हो जाएगा।

वर्तमान में हम सरकार को दो तरह के tax अदा करते है। इसमें Direct Tax (जो हम directly Central Government को देते है), Indirect Tax(जो हम व्यापारियों और State Government को देते है) और Other Tax में विभागा गया है। अब तीनो प्रकार के taxes में कई उपप्रकार है जिन्हें अब तक अदा करते आये है। नीचे दिए गए टेबल से इन सभी प्रकार के टैक्स का हमे पता चलता है।

आप समझ चुके होंगे कि हम कितने सारे tax pay करते है। हालांकि, यह सभी taxes अलग अलग authorities के पास जाता था और सभी taxes India के हर राज्य के लिए अलग अलग होता था। यही कारण से हमे वस्तुओं का मूल्य हर राज्य में अलग अलग देखनो को मिलता था।

अब हम जानेंगे कि GST kya hai. ऊपर दिए गए सभी Indirect taxes (excise, CST, VAT, service tax,etc) को मिला के अब हमें सिर्फ एक ही tax देना होगा जिसका नाम है GST। जी हां अब हमें अलग अलग tax को देने की जरूरत नही है, उस वस्तु या सेवा पर तय किया हुआ एक ही टैक्स हमे देना है।

GST के कितने प्रकार होते है? Types of GST in Hindi

GST को तीन प्रकारों में विभागा गया है।

  • 1. CGST – Central GST – GST में से कुछ हिस्सा Central Government को जाएगा।
  • 2. SGST – State GST – GST में से कुछ हिस्सा state government को जाएगा।
  • 3. IGST – Intet State GST – अगर एक राज्य से दूसरे राज्य में वस्तु लायी जाए तो पूरे GST से कुछ हिस्सा इन राज्यों को मिलेगा।

 

GST kya haiअब आप सोच रहे होंगे कि क्या हमें इन तीनो प्रकार के tax देने होंगे? जी नही हमे सिर्फ GST के नाम से एक ही tax देना है। हमारे दिए हुए इस एक ही tax को GST authority CGST, SGST और IGST में विभाग करेगी।

GST का मतलब क्या है? GST meaning in Hindi.

सामान्य ग्राहक अपने जीवन मे कई चीजे (Goods) खरीदता है या कई सेवाओं (Services) का उपभोग लेता है। GST में इन्ही दो प्रकारों को शामिल किया गया है।

Goods Tax – अपने दैनिक जीवन मे इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुएं जैसे अनाज, घरेलू उपकरण

Service Tax – कई तरह की सेवाएं हम काम के लेते है, इस मे लगने वाले tax को सेवा कर में लिया जाएगा, जैसे हवाई जहाज सफर, 5 star hotel , आदि।

GST bill में शामिल कि गई वस्तुओं की tax rate. GST tax rate details in Hindi

Indian Government ने GST में कुल मिलाके 1,211 products को अलग अलग categories में divide किया है। इन सभी products को 0% , 5%, 12%, 18%, और 28% कि categories में divide किया है।

 

0% GST slab , No Tax में शामिल किए गए Products
GST kya hai

 

5% GST slab में शामिल किए गए ProductsGST kya hai

12% GST slab में शामिल किए गए Products
GST kya hai

 

18% GST slab में शामिल किए गए ProductsGST kya hai

 

28% GST slab में शामिल किए गए Products
GST kya hai

Read Also …

• PayPal पे अकाउंट कैसे बनाये?

• WhatsApp को इस्तेमाल करे बिना फ़ोन नंबर के

• BHIM app क्या है? BHIM app को कैसे इस्तेमाल करते है?

 

GST से सस्ती या महंगी होने वाली वस्तुओं की लिस्ट। GST Cheaper and Costlier Items List

 

GST kya hai

GST कैसे काम करेगा। How GST works?

One Nation One Nation के चलते GST से वस्तु के सभी stages पर एक ही tax लगेगा। इसे हम एक उदाहरण के रूप से समझेंगे।

एक कपड़े की कंपनी ने शर्ट बनाने के लिए raw material आर्डर किया और उसपे process कर के एक शर्ट बना लिया। अब मान के चलो की उस raw मटेरियल पर 10% GST लगेगा। कंपनीने 100 रुपयो के शर्ट पर मानो 30 रुपयो का margin रख लिया जो उसने शर्ट बनाने की process में खर्चा किया है, अब 10% tax की हिसाब से शर्ट की कुल कीमत 130 रुपये हो गयी। जब यह कंपनी शर्ट whole seller को बेचेगी तो 10% की हिसाब से उसे 13 रुपये tax लगेगा लेकिन अब GST के मुताबिक इस कंपनी को 13 रुपयों की बजाय सिर्फ 3 रुपये टैक्स देना पड़ेगा, क्यों की उन्होंने पहले ही 10% tax pay कर दिया है।
अब whole seller इस शर्ट पर 20 रुपये margin रखता है तो शर्ट 150 रुपयो का हो जाएगा। अब दुकानदार को बेचते वक्त whole seller को 15 रुपये tax देना होता था, लेकिन अब GST के चलते उसे सिर्फ 2 रुपये (15 – 13) टैक्स देना होगा।
इसी तरह दुकानदार का 10 रुपये मार्जिन लगाके 160 रुपयो के शर्ट के लिये उसे 16 रुपयो के बजाय सिर्फ 1 रुपया tax देना होगा।
हालांकि अब जब consumer इस शर्ट को खरीदेगा तब उसे 100 रुपयो के शर्ट पर 10 + 3 + 2 + 1 = 16 रुपये tax देना होगा। ग्राहक हो यह शर्ट अब 116 रुपयों को मिलेगा जबकि पुराणी टैक्स सिस्टम के चलते उसे 160 रूपये देने पड़ते थे.

इस उदाहरण से हमे यह पता चलता है कि अब tax पे ही tax नही देना होगा। GST से अब सिर्फ Value addition पर ही tax लगेगा। इससे tax की कार्य पद्धति बिल्कुल सरल और आसान हो जाएगी।
अगर आप एक seller है तो आपके पुराने VAT , TIN जैसे नंबर को मिलाके आपको सिर्फ एक ही GST number मिलेगा।

 

GST number किस किसको लेना जरूरी है? Who needs to register for GST number

वह सभी जो व्यापारी है, वस्तु बेचते है, सेवाए देते है उन सभी को GST number लेना जरूरी है। GST के बिना आप कोई भी वस्तु या सेवा की बिक्री नही कर सकते। GST number प्राप्त करने के लिए आपको GST enrollment करना पड़ेगा। GST enrollment के लिए PAN card का होना जरूरी है।

 

GST से सामान्य ग्राहकों पर क्या असर पड़ेगा। What is the effect of GST on consumers?

वैसे तो GST से consumer पर खास असर नही पड़ेगा। क्यों कि ग्राहक को टैक्स तो देना ही है , सिर्फ कुछ चीजें सस्ती होगी और कुछ महंगी।

 

मुजे उम्मीद है आपको GST kya hai इसके बारे में पता चल गया होगा? अगर आपको कोई सवाल या शंका है तो निचे कमेंट के जरिये जरुर बताये.

4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *